मंगलवार, 16 फ़रवरी 2016

वहम

बहुत सर्द थी कल की रात...
ख़्यालात भी रजाई में जैसे सिकुड़ से रहें थे...
कोई दस्तक सी सुनाई दी थी ज़हन के दरवाजे पर..
क्या वो तुम थी... शायद नहीं 
वहम  होगा ...हाँ वही होगा... 
फिर आया होगा ठहरने एक रात मेरे छोटे से घर में...
दोस्त है मेरा , पुराना दोस्त...
मिला था मुझे पहली दफा उस रोज़ जब तुम्हे देखा था पहली बार 
नीम वाले नुक्कड़ पर नजरे झुकाये गुजरते हुए... 
तुम्हे याद भी नहीं होगा शायद, पर मैं रोज उस लम्हे को कई बार जीता हूँ...
खैर उस लम्हे से मेरा और इस हसीं वहम  का याराना है...
कभी भी, कहीं भी चला आता है कम्ब्खत ...
ना इसे वक़्त का तकाज़ा है , ना जगह की परवाह...
ना मौसम से रुकता है ना आँधियों ,तूफानों से डरता है...
कभी-कभी सोचता हूँ भाग जाऊँ कहीं इससे दूर...बहुत दूर...
फिर दूसरे ही पल ये भी ख्याल आता है कि माना चलो झूठा है ,जालिम ही सही...
जैसा भी है मेरा अपना तो है...बिल्कुल तुम्हारी तरह...

-हिमांशु राजपूत 

5 टिप्‍पणियां:

  1. Very interesting blog. A lot of blogs I see these days don't really provide anything that attract others, but I'm most definitely interested in this one. Just thought that I would post and let you know.

    उत्तर देंहटाएं
  2. Blogging is that the new poetry. I notice it terrific and wonderful in some ways.

    उत्तर देंहटाएं
  3. Very informative, keep posting such sensible articles, it extremely helps to grasp regarding things.

    उत्तर देंहटाएं
  4. What you are spoken communication is totally true. i do know that everyone should say a similar factor, however I simply assume that you simply place it in an exceedingly method that everybody will perceive. i am positive you may reach such a lot of folks with what you've to mention.

    उत्तर देंहटाएं